Diwali | दिवाली पर कितने दीये जलाने चाहिए? जाने हर दीये के महत्व को.

Diwali par kitne diye

Diwali | कार्तिक मास की अमावस्या पर दिवाली का त्यौहार मनाने की परंपरा है इसे रोशनी का त्यौहार भी कहा जाता हैं और यह हिंदुओं के लिए सबसे शुभ त्यौहारों में से एक महत्त्वपूर्ण त्यौहार हैं जो अंधेरे पर प्रकाश की जीत, बुराई पर अच्छाई, अज्ञान पर ज्ञान और निराशा की विचारधाराओं पर आशा का प्रतिनिधित्व करती हैं. पूरे त्यौहार में सभी के द्वारा मनाए जाने वाले रीति रिवाजों में से एक हैं दीया (Diya) जलाना माना जाता है कि दीये (Lamps) नकारात्मक ऊर्जा को दूर रखते हैं. हिन्दू पौराणिक कथाओं की मान्यता अनुसार दीवाली के दिन तेरह (13) दीयों को घर में जलाना चाहिए और अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि की कामना करनी चाहिए माना जाता है कि तेरह (13) दीये नकारात्मक ऊर्जाओं और बुरी आत्माओं से रक्षा करते हैं.

Diwali | दिवाली पर जलाएं जाने वाले तेरह (13) दीयों का महत्व :

1) पहला दीया :

पूरे परिवार की उपस्थिति में घर के बाहर कूड़ेदान के पास दक्षिण की ओर मुंह करके रखना चाहिए यह पहला दीया परिवार को अकाल मृत्यु से बचाता है.

2) दूसरा दीया :

दीवाली की रात्रि में एक घी का दीया जलाकर  पूजा घर में रखे, यह दिया घर में सौभाग्य को लाता हैं.

3) तीसरा दीया :

माँ लक्ष्मी के सामने जलाना चाहिए मान्यता है कि माँ लक्ष्मी के सामने दीया जलाने से धन समृद्धि और सफलता मिलने के साथ ही माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद भी मिलता है.

4) चौथा दीया :

मिट्टी का चौथा दीया तुलसी के सामने जलाया जाता है क्योंकि इससे घर में शांति और खुशी आती हैं.

5) पांचवा दीया :

पांचवा दीया घर के प्रवेश द्वार के सामने जलाना चाहिए ऐसी मान्यता है कि यह घर से बुरी आत्माओं को दूर रखता है और घर में प्यार और खुशियों को बढ़ता है.

6) छठवां दीया :

यह भाग्यशाली माना जाता है और इस दीये को सरसों तेल से जलाकर पीपल के वृक्ष के नीचे रख जाता हैं माना जाता है कि यह वित्तीय और स्वास्थ्य परेशानियों से राहत देता है.

7) सातवां दीया :

घर के नजदीक किसी भी मंदिर में जलाना चाहिए.

8) आठवां दीया :

यह दीया कूड़ेदान के पास जलाना चाहिए जिससे कि नकारात्मक ऊर्जा और बुरी आत्माएं दूर भाग जाएं.

9) नौवां दीया :

नौवां दीया घर के वाशरूम के बाहर जलाएं क्योंकि यह सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बनाये रखता है.

10) दसवां दीया :

घर की छत पर जलाना चाहिए मान्यता है कि यह दीया किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षा का प्रतीक हैं.

11) ग्यारवां दीया :

ग्यारवां दीया को घर की किसी भी खिड़की में रखा जाता है माना गया है कि यह बुरी ऊर्जा से लड़ने का काम करता है.

12) बारहवां दीया :

इस दीया को घर की सबसे ऊपरी मंजिल पर रख जाता हैं  कहा जाता हैं कि यह स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है.

13) तेरहवां दीया :

इस अंतिम तेरहवां दीया को घर के चौराहे को सजाने के लिए जलाएं जो कि जीवन में अच्छे अनुभूति लाने में मदद करता है.

तो इस दीवाली आप भी अपने घर में तेरह (13) दीयों (Diwali par diya kaise lagate hain) को इन स्थानों पर जलाएं जिससे कि आपके घर में सुख समृद्धि आने के साथ ही माँ लक्ष्मी आशीर्वाद भी प्राप्त हो.

उम्मीद है कि आपको दीवाली से जुड़ा यह लेख पसंद आया होगा तो इसे अपने परिजनों और दोस्तों के बीच अवश्य शेयर करें और ऐसे ही त्यौहारों से जुड़े लेख को पढ़ने के लिए जुड़े रहें madhuramhindi.com के साथ.


FAQ – सामान्य प्रश्न

दीवाली पर कितने दीयों को जलाने का महत्व है ?

तेरह (13) दीये.

इन तेरह दीयों को जलाने का क्या महत्व है ?

नकारात्मक ऊर्जा और बुरी शक्तियों से रक्षा करता है.

तुलसी के सामने दीया जलाने के क्या होता हैं ?

घर में सुख और शांति आती हैं.

 नकारात्मक ऊर्जा और बुरी आत्माओं को दूर भगाने के लिए दीया कहाँ जलाना चाहिए ?

 कूड़ेदान के पास. 


अस्वीकरण (Disclaimer) : यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना ज़रूरी है कि madhuramhindi.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता हैं.